गुनगुनाते ख़्यालों से तुम

गुनगुना रही थी ख़्यालों में, तुम बूंद बूँद टपक रहे थे यादों से, छन कर मेरी मुस्कुराहटों में आ गिरे तुम, और अब हल्के हल्के गुनगुना रही हूँ तुम्हे।।

Comments

Popular posts from this blog

मुझपे मेरा गर्व

आम सी ज़िन्दगी

गुस्सा